SCHEMES

Uttar Pradesh Scheduled Caste Finance and Development Corporation Limited

Our Schemes



The following schemes are operated for the upliftment of the unemployed people living below the poverty line under various schemes of Self-employed through the corporation, under which loans are distributed-

  • 1- पंo दीनदयाल उपाध्याय स्व- रोजगार योजना

    इस योजनान्तार्गत राष्ट्रीयकृत बैंकों के सहयोग से कृषि/उद्योग/सेवा एवं व्यसाय क्षेत्र की विभिन्न रोजगारपरक योजनाये गरीबी की सीमा रेखा के नीचे निवास करने वाले अनुसूचित जाति के परिवारों कों उनकी अभिरुचि एवं क्षेत्रीय आवश्यकता के आधार पर रू0 15.00 लाख तक की योजनाये उपलब्ध कराई जाती है जिस पर परियोजना लागत का 50% अधितम रू0 10,000/- अनुदान,परियोजना लागत का 25 प्रतिशत मार्जिन मनी ऋण (निगम की अंशपूंजी से) 4 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर पर तथा शेष धनराशि बैंक ऋण के रूप में प्रचलित बैंक ब्याज दर पर उपलब्ध कराई जाती है|

    Eligibility
  • 1. प्रार्थी अनुसूचित जाति का व्यक्ति होना चाहिए।

    2. प्रार्थी गरीबी की रेखा के नीचे निवास कर रहा हो।

    3. गरीबी की रेखा ग्रामीण क्षेत्र में अधिकतम रुo 46,080 /- तथा शहरी क्षेत्र में रुo 56,460 /- वार्षिक आय सीमा तक निर्धारित है।

  • 2- नगरीय क्षेत्र दुकान निर्माण योजना

    अनुसूचित जाति के बेरोजगार बी0 पी0 एल0 श्रेणी के व्यक्तियों को जिनके पास 13.32 वर्ग मीटर की स्वंय की भूमि उपलब्ध है को स्वरोजगार स्थापित किये जाने हेतु दुकान निर्माण योजना संचालित है | दुकान निर्माण की लागत रू0 78,000/- से रू0 85,000/- निर्धारित है| योजनान्तार्गत निर्माण लागत में रू0 10,000/- अनुदान तथा शेष धनराशि ब्याज मुक्त ऋण के रूप में होती है जिसकी वसूली 10 वर्षो की समान मासिक किश्तों में बिना ब्याज के वसूल की जाती है|

  • 3- लान्ड्री एवं ड्राईक्लीनिंग योजना

    योजनान्तार्गत अनुसूचित जाति के धोबी समाज के बी0 पी0 एल0 श्रेणी के परिवारों हेतु रू0 1.00 लाख तथा रू0 2.16 लाख की लागत की परियोजनाओं के अन्तर्गत बिना ब्याज के ऋण की सुबिधा उपलब्ध करायी जाती है| परियोजना लागत में रु0 10,000/- अनुदान तथा शेष धनराशि ब्याज मुक्त ऋण के रूप में होती है जिसकी वसूली 05 वर्षो की समान मासिक किश्तों में बिना ब्याज के वसूल की जाती है|

  • 4- मैनुअल स्केवेंजरो के पुनर्वास की स्वरोजगार योजना

    मैनुअल स्केवेंजरो के पुनर्वास की स्वरोजगार योजनान्तार्गत रु0 15.00 लाख तक की परियोजनाये बैंकों के सहयोग से वित्तपोषित की जानी है,जिसमे न्यूनतम रू0 12,500/- तथा अधिकतम रू0 3.25 लाख अनुदान की सुविधा दी जाती है,बैंक शेष धनराशि बैंक ऋण के रूप में देय होती है | अनुदान की धनराशि बैंक एंडेड सब्सिडी के रूप में दी जानी है | बैंक ब्याज दर पर ब्याज अनुदान दिए जाने की व्यव्स्था है जिससे की लाभार्थी कों बैंक ऋण पर मात्र 6 प्रतिशत ब्याज देना होगा | योजनान्तर्गत निःशुल्क प्रशिक्षण दिए जाने की सुविधा है प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षार्थियों को रुo 3000/- प्रतिमाह वृत्तिका दी जाती है| इसके साथ ही साथ चिन्हित स्वच्छकारो को रुo 40,000 /- एक मुश्त नकद सहायता रुo 7,000/- की मासिक किस्तों में दी जानी है |